Jai DADA Ki
जय श्री बालाजी की || जय श्री दादाजी की || जय माताजी की
Read More
Jai DADA Ki
जय श्री बालाजी की || जय श्री दादाजी की || जय माताजी की
Bhajans
Jai Dada Ki
जय श्री बालाजी की || जय श्री दादाजी की || जय माताजी की
Latest Update
Previous
Next

About US

आपको यह जानकर प्रसन्नता होगी कि मै आपको एक ऐसी धाम के बारे मे अवगत कराने जा रहा हुँ जहाँ पर आने वाले हर भक्त की मनोकामना श्री अखारामजी दादोजी की कृपा से पुर्ण होती है ।काफी वर्ष पहले परसनेऊ गांव मेँ श्री अखारामजी महाराज का जन्म पलोङ परिवार दाधीच वंश मेँ पिता श्री हरजी राम जी एवं माताश्री सुखी बाई के घर मेँ भादवा बदी पंचमी के शुभ दिन हुआ । बाल्यकाल मेँ ही वे हनुमानजी महाराज की सेवा करने लगे । उसी समय मे श्री मोहनदासजी महाराज (सालासर) , श्री राघवदासजी महाराज (मीरण) , श्री केशवदासजी महाराज (सारङी) आदि महान सन्त हुये व श्री हनुमानजी महाराज की भक्ति करके जनहित मेँ वरदान व सिद्धियां प्राप्त की । 

Latest Photo

001

Latest Bhajans

कोरोना वैश्विक महामारी के दौरान जनसेवा, गोसेवा व आध्यात्मिक ऊर्जा बढ़ाने में अक्षय भक्त मंडल सेवा समिति रही अग्रणी

राजलदेसर,(कुंदन दाधीच)3 जून। कोरोना वैश्विक महामारी से निजात दिलवाने के लिए विश्व कल्याण के लिए अक्षय भक्त मंडल सेवा समिति परसनेऊ धाम के दादाजी के नाम

Read More »

Our Testimonial

Contact Us

Connect With Us

दादा चालीसा का पाठ हजारों लोग अपनी दिनचर्या में करते है । दादाजी अखाराम जी महाराज हनुमान जी के परम भक्त थे । आइये दादाजी अखाराम जी महाराज के जीवन को संक्षेप में जानते है । वीरों और देवताओं की धरती राजस्थान के वर्तमान चूरू जिले की रतनगढ़ तहसील के अंतर्गत परसनेऊ नामक एक छोटा सा गांव है । सम्वत १५५० में इसी परसनेऊ गांव के दाधीच ब्राम्हण श्री हरजीराम जी के घर में दादाजी अखाराम जी महाराज ने जन्म लिया ।व३ अपने बचपन से ही बालाजी महाराज के परम भक्त रहे, विद्याध्ययन में भी उनका मन नहीं लगता था । गायें चराते और भजन गाते, इसी दिनचर्या में उनका बचपन गुजरा । अपने अखंड भक्तिभाव के कारण श्री हनुमान जी महाराज के दर्शन व लोकसेवार्थ कई प्रकार की सिद्धियां प्राप की । उनके चिमटे के स्पर्श करने से और उनकी धुनि की भभूति मिलाने से जो कलवानी बनती है वो अमृत के सामान होती है ।जहरीले विष से लेकर कई तरह की बीमारियां उनकी कलवाणी और भभूति से समाप्त होती है । परसनेऊ में श्री दादाजी अखाराम जी महाराज व श्री बालाजी महाराज का भव्य मंदिर है जहाँ साल भर भक्तों का ताँता लगा रहता है । भादवा कृष्णा पंचमी को दादा जयंती पर यहाँ पर भव्य मेला आयोजित होता है । आइये दादा चालीसा का पाठ करके अपने जीवन को धन्य करते है ।